क्या आप भी नकली गुड़ का सेवन कर रहे हैं? घर पर शुद्धता की पहचान करें

क्या आप भी नकली गुड़ का सेवन कर रहे हैं?  घर पर शुद्धता की पहचान करें

सर्दियां आते ही हम ऐसा खाना या चीजें खा लेते हैं जो हमारे शरीर को गर्माहट दे सकते हैं, क्योंकि इस ठंड से बचने का यही एकमात्र तरीका है। भले ही हम कितने भी गर्म कपड़े पहन लें, लेकिन जब तक हम कुछ गर्म चीजें नहीं खाते हैं, ठंड कम या कम नहीं होती है। ऐसे में गुड़ आपकी इसमें बहुत मदद कर सकता है। गुड़ का सेवन सर्दियों में अधिक मात्रा में किया जाता है, क्योंकि यह हमारे शरीर को गर्माहट देने का काम करता है। लेकिन कल्पना कीजिए कि आप जो गुड़ खा रहे हैं और वह नकली है? तो चलिए आपको बताते हैं कि आप घर बैठे असली और नकली गुड़ कैसे पा सकते हैं।दरअसल, चीनी शरीर के लिए बहुत हानिकारक है। इसलिए, इसकी जगह पर गुड़ का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है, क्योंकि यह शरीर को डिटॉक्स करता है, यानी यह शरीर में जमा सभी गंदगी को बाहर निकालने में मदद करता है। गुड़ का स्वाद बहुत गर्म माना जाता है। इसलिए लोग सर्दियों में आटे का हलवा बनाते हैं और चीनी की जगह गुड़ मिलाते हैं ताकि शरीर गर्म हो सके। गुड़ हमारे शरीर को कई पोषक तत्व प्रदान करता है। गुड़ में फास्फोरस, पोटेशियम, कैल्शियम, प्रोटीन, आयरन जिंक और विटामिन बी सहित कई ऐसे तत्व होते हैं, जो हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी हैं। वहीं सर्दियों में इसका सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है। जहां एक ओर गुड़ सेहत को कई लाभ देता है, वहीं दूसरी ओर यह हमारी त्वचा के लिए भी बहुत प्रभावी है। लेकिन इसके लिए गुड़ का असली होना जरूरी है। यदि आप पानी में गुड़ डालते हैं और यह नीचे बैठ जाता है, तो यह नकली गुड़ हो सकता है और यदि गुड़ पानी में घुल जाता है, तो यह गुड़ असली हो सकता है। यदि आप गुड़ की चाय बना रहे हैं और आपकी चाय फट जाती है, तो यह एक संकेत है। उस रसायन को गुड़ में मिलाना चाहिए। असली और नकली गुड़ की पहचान करने का सबसे सटीक तरीका उसका रंग है। गुड़ का रंग जो असली होता है उसका रंग गहरा भूरा होना चाहिए, लेकिन अगर गुड़ पीला है तो समझ लें कि उसमें कुछ केमिकल पाया जा सकता है। इसी समय, गुड़ चखने से असली नकली गुड़ का भी पता चल सकता है। यदि चखना, यदि गुड़ थोड़ा नमकीन है, तो यह समझा जाता है कि इसमें उच्च मात्रा में खनिज लवण हैं। गुड़ को बाजार में अंधाधुंध बेचा जाता है। इस तरह के गुड़ में तीन विशेष सामग्री रासेनिक रंग, पाउडर और सोडा मिलाया जाता है। गुड़ को चमकीला, पीले रंग का और वजनदार बनाया जाता है, ताकि अधिकतम लाभ कमाया जा सके। लेकिन लोग यह भूल जाते हैं कि इस नकली गुड़ का स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इसका सेवन करने से आपके पाचन तंत्र के साथ-साथ आपकी किडनी पर भी बुरा असर पड़ता है। इसलिए, गुड़ की पहचान करना बहुत महत्वपूर्ण है। अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारी और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं। newscrab.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। उन्हें लागू करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें। इस खबर से जुड़े सवालों के लिए कमेंट करें और ऐसी खबरें पढ़ने के लिए हमें बताएं, हमें फॉलो करना ना भूलें – धन्यवाद youNEWSCRAB

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.