2018 से 460 नक्सली मारे गए, 161 जवान शहीद

2018 से 460 नक्सली मारे गए, 161 जवान शहीद

पिछले दो वर्षों के दौरान, सुरक्षा बलों ने देश में 460 नक्सली आतंकवादियों को ढेर कर दिया है, जबकि 2018 से 2020 तक समान अंतराल के दौरान, नक्सल हमलों के दौरान सुरक्षा बलों के 161 जवान शहीद हुए हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय के वामपंथी उग्रवाद (LWE) विभाग ने सूचना के अधिकार के तहत पूछे गए एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी। दरअसल, नोएडा के वकील और RTI कार्यकर्ता रंजन तोमर ने गृह मंत्रालय से सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी थी। जानकारी के लिए। तोमर ने 2018 से 2020 तक ड्यूटी के दौरान शहीद हुए सुरक्षाबलों और इस दौरान मुठभेड़ में मारे गए वामपंथी उग्रवादियों का आंकड़ा पूछा था। मंत्रालय ने अपने जवाब में नवंबर 2020 तक के आंकड़ों की जानकारी दी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सितंबर 2020 में बताया था कि देश में वामपंथी उग्रवाद या नक्सलवाद से संबंधित हिंसा लगातार घट रही है और अब इसका असर 46 जिलों तक कम हो गया है। गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी ने कहा था कि देश के 11 राज्यों में 90 जिलों को वामपंथी उग्रवाद के लिए संवेदनशील माना जाता है और इन जिलों को गृह मंत्रालय के सुरक्षा संबंधित व्यय (SRE) योजना के दायरे में रखा गया है। 16 सितंबर 2020 गृह मंत्रालय ने एक अन्य जानकारी में बताया था कि वामपंथी उग्रवाद से संबंधित हिंसा के दौरान आम नागरिकों और सुरक्षा बलों के कर्मियों की मृत्यु 2010 में 1005 थी, जो 2019 में घटकर मात्र 202 रह गई। वर्ष 2020 में भी, 15 अगस्त, केवल 102 नागरिक और सैनिक हिंसक गतिविधियों के शिकार हुए, जबकि 2019 में, यह आंकड़ा 137 मौतों का था। वर्ष २०१ 26, २६३ और २०१ 26 में २४० नागरिक और सैनिक शहीद हुए। नक्सलियों ने १५ वर्षों में 7१ ९ 8 लोगों की हत्या की। गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, २०१४ से २०१ 26 के दौरान १५ साल के दौरान विभिन्न हिस्सों में ,,१ ९ 26 लोग देश वामपंथी उग्रवाद का शिकार हो गया। इसमें शामिल अधिकांश आम नागरिक आदिवासी थे, जिन्हें नक्सली संगठनों ने पुलिस मुखबिर के रूप में क्रूरतापूर्वक मौत के घाट उतार दिया था।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.