किसानों के मुद्दे पर अन्ना हजारे 30 को दिल्ली में भूख हड़ताल का आयोजन करेंगे

किसानों के मुद्दे पर अन्ना हजारे 30 को दिल्ली में भूख हड़ताल का आयोजन करेंगे

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन का हिस्सा होंगे। उन्होंने कृषि कानूनों के बारे में केंद्र सरकार को एक अल्टीमेटम दिया है कि अगर किसानों के मुद्दे पर कोई ठोस निर्णय नहीं होता है, तो 30 जनवरी से दिल्ली किसानों के मुद्दे पर अपने जीवन की आखिरी भूख हड़ताल करेगा। उन्होंने रामलीला मैदान में आमरण अनशन की अनुमति देने की मांग की है। यदि रामलीला मैदान में उपवास की अनुमति नहीं है, तो मैं अपना उपवास शुरू करूंगा जहां जगह उपलब्ध है। अन्ना ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है लेकिन कोई जवाब नहीं मिला है। सरकार पिछले तीन साल से किसानों के मुद्दे पर केवल आश्वासन दे रही है। लेकिन भरोसा अब भरोसा नहीं रहा। उनका कहना है कि नए कृषि कानून ‘लोकतांत्रिक मूल्यों’ के अनुरूप नहीं हैं और बिलों के प्रारूपण के लिए जनता की भागीदारी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि 14 दिसंबर को उन्होंने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को एक पत्र लिखा था। केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर विभिन्न किसान संगठनों के जारी आंदोलन और कृषि पर एमएस स्वामीनाथन समिति की सिफारिशों सहित उनकी मांगों की मांग की। अगर नहीं मानी गई तो वह भूख हड़ताल पर चले जाएंगे। उन्होंने कृषि लागत और कीमतों के लिए आयोग को स्वायत्तता प्रदान करने की भी मांग की है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.