यह दुनिया का सबसे खतरनाक जंगल है, कोई भी अंदर जाने के बाद वापस नहीं आता है

यह दुनिया का सबसे खतरनाक जंगल है, कोई भी अंदर जाने के बाद वापस नहीं आता है

हमारे आसपास कई तरह की जगहें हैं। कुछ जगहों पर जाने के लिए यह काफी आश्वस्त करने वाला है, फिर बहुत सारे स्थान रहस्यमय और डरावने भी हैं, जहाँ लोग जाने से कतराते हैं। रोमानिया का ट्रांसल्विया प्रांत भी डारवाना के समान है। ट्रांसिल्वेनिया में कई अजीब घटनाएं घटी हैं कि अब लोग इस जगह पर जाने से डरते हैं। आज हम आपको ट्रांसिल्वेनिया प्रांत के एक डरावने जंगल के बारे में बताएंगे। yuहोया बसु ’को दुनिया के सबसे खूंखार जंगलों में से एक माना जाता है, जो ट्रांसिल्वेनिया प्रांत में क्लूज काउंटी में स्थित है। जंगल में होने वाली रहस्यमयी घटनाओं को देखने के बाद इसे ‘बरमूडा ट्रायंगल ऑफ ट्रांसिल्वेनिया’ कहा जाता है। यह जंगल 700 एकड़ में फैला हुआ है। ऐसा माना जाता है कि इस जंगल में प्रवेश करने के बाद लोग रहस्यमय तरीके से गायब हो जाते हैं। आपको बता दें कि इस जंगल में अब तक सैकड़ों लोग लापता हो चुके हैं, अभी तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है। होया बासु के जंगल में पेड़ मुड़ और टेढ़े हैं, जो दिन के उजाले में भी बेहद डरावने लगते हैं। लोग इस जगह को यूएफओ (उदयनास्त्री) और भूतों से जोड़कर भी देखते हैं। इसके अलावा, कई लोगों के बारे में कहा जाता है कि वे यहां रहस्यमय तरीके से गायब हो गए थे। इस जंगल में लोगों की दिलचस्पी तब बढ़ी जब इलाके में एक चौका गायब हो गया। सदियों पुरानी कथा के अनुसार, जंगल में जाते ही आदमी गायब हो गया। आश्चर्यजनक रूप से, उस समय उनके साथ 200 भेड़ें थीं। कुछ साल पहले एक सैन्य तकनीशियन ने दावा किया था कि उन्होंने इस जंगल में एक उड़ने वाली चट्टान को देखा है। इसके अलावा वर्ष 1968 में, एमिल बरानिया नाम के एक व्यक्ति ने दावा किया कि उसने यहाँ आकाश में एक अलौकिक शरीर देखा है। यहां आने वाले कुछ पर्यटकों ने भी कुछ इसी तरह की घटनाओं का उल्लेख किया है। वर्ष 1870 में, एक लड़की गलती से इस जंगल में प्रवेश कर गई थी और उसके बाद वह गायब हो गई थी। किवंदती के अनुसार, जब लोग ठीक पाँच साल बाद जंगल से लौटे तो लोग हैरान रह गए। लेकिन वह अपनी याददाश्त पूरी तरह खो चुकी थी। हालांकि, कुछ समय बाद उनकी भी मौत हो गई। इस तरह की कई घटनाएं इस जंगल को डरावना बनाती हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.